creatine uses benefits side effects in hindi

                                              

Creatine monohydrates use benefits side effects 


दोस्तों  फिटनेस इंडस्ट्री में सप्लीमेंट एक महत्वपूर्ण भाग है| लेकिन लोगो की समस्या यह है की सप्लीमेंट के बारे में लोगों को अच्छी जानकारी कम और  गलत जानकारी ज्यादा है |
हम इस टॉपिक में बात करेंगे क्रिएटिन क्या है ? और वह क्या काम करता है ? कैसे लेना चाहिए ? फायदे और नुकसान जानेंगे क्योंकि आप तय कर सके की क्रिएटिन आपको लेना चाहिए या फिर नहीं लेना चाहिए |

हमारी बॉडी के जो सारे  सेल्यूल (मांसपेशीक )कार्य होते हैं उनको काम करने के लिए एनर्जी चाहिए होती है दोस्तों और हम इस एनर्जी को ATP (adenosine triphospate) कहते हैं |

इसे हर कोई किसी भी टाइम ले सकता है लेकिन बिना एक्सरसाइज के इसे लेना कोई फायदा नहीं है | क्रिएटिन का काम एनर्जी को रिसाइकिल करना होता है यह हमारे शरीर में उर्जा खत्म होने के बाद जो एटीपी बनता है उसे एटीपी में कन्वर्ट करके हमारे एनर्जी को रिसाइकल करता है जिससे की हम दोबारा काम करने लायक एनर्जी बना पाते हैं|

creatine kya hai fayde aur nuksan,
ATP

 जब हम बात करें क्रिएटिन की तो क्रिएटिन मुख्यता एक मॉलिक्यूल है जो हमें एनर्जी सप्लाई करता है | तो जब हम क्रिएटिन या फिर सप्लीमेंटेशन करते हैं तो आपको ऐसा लगता है कि, यह आपका वजन बढ़े  आपके मसल के साइज बड़े आपकी पावर बड़े यह सब चीजें बिल्कुल होती है | तो बिल्कुल क्रिएटिन काम करता है |


यह आर्टिकल भी पढ़े -

क्रिएटिन क्या है ?


 क्रिएटिन पाउडर आजकल बॉडी बिल्डर और खिलाड़ियों का पॉपुलर सप्लीमेंट है | क्रिएटिन एक ऐसी चीज है जो हमारे शरीर को बॉडी एनर्जी की तरह इस्तेमाल करती हैं |

यह आपकी वेटलिफ्टिंग बढ़ाने का काम ही नहीं करता इसके साथ-साथ लंबे टाइम तक आपको एनर्जी  बनाए रखता है ताकि आप एक्सरसाइज के दौरान थकावट महसूस ना कर सके|

वैसे यह हमारे शरीर में यह पहले से ही मौजूद होता है लेकिन आप वर्कआउट करते हैं तो आप इसका इस्तेमाल कर सकते हैं अगर आप इसे लेना चाहते हैं तो ले सकते हैं | 

क्रिएटिन काम कैसे करता है ?


 क्रिएटिन का जो काम करने का तरीका होता है वह यह होता है कीक्रिएटिन जैसे मसल में अब्सॉर्ब होते हैं  हमारे मसल्स सेल्स में खींचता हैं तो यह क्या करता है यह पानी हमारे मसल में  खींचता है |

और जब पानी खींचेगा तो हमारे  मांसपेशी मे  सूजन जाता जैसे हो जाता है तो यह मुख्यता  हमारे मसल सेल्स कि anabolic state  को बढ़ाता है मतलब ज्यादा प्रोटीन सिंथेसिस होता है |

आप में से काफी सारे लोग ऐसे होंगे जिनको लग रहा होगा कि, एनाबोलिक स्टेट मतलब कोई एनाबोलिक स्टेरॉयड होता है ऐसा बिल्कुल भी नहीं  होता | 

 एनाबोलिक स्टेट का मतलब  जब हमारे सेल्स बॉडी से  एनर्जी यूज कर सकते हैं अपने आप को रिपेयर करने के लिए और बड़ा बनाने के लिए जो कि हम सब चाहते हैं |

क्रिएटिन कितना लिया जाए ?


creatine uses benefits side effects in hindi,
creatine dose


 अब इसमें ऐसा होता है की ऐसा मान लीजिए की, कोई ८० किलो का व्यक्ति हैं तो हर किलो का ० .३ gram/kilo मतलब जो ८०  किलो का होता है उसे लोडिंग फेज में  होता है क्रिएटिन का  तो अगर आप ८०  किलो के हैं तो आप का १  दिन का कोटा हो गया २४  ग्राम २४  ग्राम  क्रिएटिन आप दिन चार पांच बार ले सकते हैं | 

दोस्तों लोडिंग फेज यह होता है तो अगर किसी को १ हफ्ते में  क्रिएटिन से असर देखना है तो हम पांच-छह दिन भी क्रिएटिन लोडिंग कर देते हैं ताकी हमारे जो मांसपेशी हैं वह क्रिएटिव से भर जाए 

एक बार आपने लोडिंग कर ली इसका अगला स्टेप आता है उसे मेंटेनेंस कैसे करना है |

क्रिएटिन लेवल को मेंटेन कैसे करें ? 


दोस्तों कई बार ऐसा होता है कि, जैसे ०.३  ग्राम का kilo हो गया आपके लोडिंग के लिए  तो ०.३ / ग्राम/kilo  हो गया आपके मेंटेनेंस फेज के लिए तो अगर कोई ८० किलो का इंसान है तो उसको करीबन २.५ ग्राम यार ३ ग्राम के आसपास वह हर दिन क्रिएटिन् लेना है तो क्रिएटिन लेवल मेंटेन रहेगा |

क्रिएटिन कब लिया जाए ?


 दोस्तों काफी सारे लोग बोलते हैं कि, क्रिएटिन वर्कआउट से पहले ले या फिर वर्कआउट के बाद ले दोस्तों मुख्यता क्रिएटिन ऐसे काम नहीं करता आपने सुना होगा किसी से कि भाई तू क्रिएटिन  वर्कआउट से पहले ले तो उससे तेरा मसल ब्रेकडाउन नहीं होगा और एनर्जी भी रहेगी यह बात तो ठीक है लेकिन हर एक के बॉडी के हिसाब से यह भी अलग अलग से काम करता है |

अगर आप इसका अभ्यास देखेंगे तो जो क्रिएटिन का लेने का वक्त होता है वह इतना महत्वपूर्ण नहीं होता सुबह ले लो दोपहर ले लो जब आपको अच्छा लगा तब आप ले सकते हैं |

आपको जो सही लगता हो  उसी हिसाब से आप क्रिएटिन  ले सकते हैं  क्योंकि हर एक की बॉडी अलग-अलग होते हैं  और उनके  कार्य करने का ढंग अलग अलग होता है |

 इसलिए जो आपको डोसेस बताए गए हैं उसे हम दिन में कभी भी  ले सकते हैं और देखो आपको कौन सा काम करता है |

 क्या क्रिएटिन सेफ है ?


 अब यह जो प्रॉब्लम है मतलब की क्रिएटिन के सुरक्षा के पहले मैं आपको बताना चाहूंगा दोस्तों कि,  क्रिएटिन के बहुत सारे प्रकार है मार्केट में क्रिएटिन मोनोहाइड्रेट, क्रिएटिनिनक्रिएटिन एच.सी.एल  और भी कई सारे प्रकार के क्रिएटिन है |

और हम जो बात कर रहे हैं इस टॉपिक में तो हम क्रियेटीन मोनोहाइड्रेट के बारे में बता रहे  हैं | मैं आपको यह बताना चाहूंगा कि, आपके क्रिएटिन मोनोहाइड्रेट ही ले इसको लेने के दो कारण हैं 

क्योंकि -

इस पर सारी रिसर्च और स्टडी  हुई है काफी टाइम से होती रही हैं १९९० से वह सिर्फ क्रियेटीन मोनोहाइड्रेट पर ही हुई हैं बाकी पर नहीं हुई है और सारे बाकी और भी नए प्रोडक्ट  रहे हैं मार्केट के अंदर

 दूसरी बात क्रियेटीन मोनोहाइड्रेट बहुत सस्ता है मतलब कि मान लो  कि आपका ३०० RS. का क्रिएटिन का डब्बा जाता है और आपको लगभग  हजार रुपए के अंदर जाएगा और वह भी अच्छे इंटरनेशनल ब्रांड का और साधारणता आपको ७०० तक अच्छा जाएगा |

अगर आप  क्रिएटिन खरीदना चाहते हैं तो क्रिएटिन मोनोहाइड्रेट ही खरीदें क्योंकि यहां बाकियों के तुलना में अच्छा है| बाकियों में इतना पैसा खर्च करना कोई मतलब नहीं बनता है|

क्रिएटिन सुरक्षा :


अब होता यह है कि, अगर आप में से किसी ने कभी अपना  किडनी टेस्ट किया है, तो उसमें एक  लेवल होता है उसे किडनाइन लेवल कहते हैं |

तो किडनाइन लेवल होते हैं वह जो हमें यह बताते हैं कि, क्या हमारी किडनी सही ढंग से काम कर रही हैं मतलब कोई प्रॉब्लम तो नहीं है ? कहीं किडनी डैमेज तो नहीं हो रही है ? 

तो ऐसा ही होता है की, जब हम क्रिएटिन सप्लीमेंटेशन करते हैं इसका एक वेस्ट प्रोडक्ट होता है  उसे क्रिएटिनिन कहते हैंजो क्रिएटिनिन अब वह सेम ही चीज हो गई लेकिन अगर आप टेस्ट करने के बाद आपके क्रिएटिनिन लेवल हल्के से ज्यादा होते हैं तो इसका मतलब यह नहीं होता कि आपका जो किडनी है वह ढंग से काम नहीं कर रहा है |

इसका मतलब बस इतना है कि, यह  वेस्ट प्रोडक्ट है जो क्रिएटिन सप्लीमेंटेशन के साथ आएगा तो इसमें घबराने की कोई बात नहीं होगी |

 इनके अलावा यहां स्टडी भी किया गया है जो इंसानों की एक ही किडनी है उनको क्रिएटिन दिया गया और बिल्कुल  सुरक्षित पाया गया है |

 अगर आपको किडनी की कोई समस्या हो तो आप अपने डॉक्टर से जरूर  सलाह लीजिए क्रिएटिन सप्लीमेंटेशन करने से पहले

अब कुछ लोग ऐसे भी होते हैं जिन पर क्रिएटिन असर ही नहीं करता उनको बोलते हैं क्रिएटिन Non Respnders अब सामान्यता यह कौन लोग होते हैं |

Non responderes  वह लोग होते हैं जिनके डाइट में नॉनवेज काफी है फिश काफी हैं इस  प्रकार के लोग तो हो सकता है आपने क्रिएटिन लिया और कुछ भी नहीं हुआ तो आप उसी कैटेगरी में आते हो अगर ऐसा हो तो फिलहाल आप क्रिएटिन मत लीजिएगा |

  •  क्रिएटिन से बॉडी बन सकती हैं ? क्या बालों का पतलापन/बाल झड़ना होता समस्या होती है ? 

क्रिएटिन से तो आप बॉडी तो नहीं बनाई जा सकती लेकिन हम उसको हमारे एनर्जी के लिए यूज कर सकते हैं जो कि हम एनर्जी यूज़ करेंगे हमारे वर्कआउट के दौरान वह हमें मदद करेगी अच्छा वेट उठाने में हमारे डिप्रेशन को बढ़ाने के लिए मदद करेगा और उसका रिजल्ट भी अच्छा होगा जैसे की मसल्स का साइज बढ़ना वर्कआउट के दौरान एनर्जी होना |

दोस्तों अभी तक इसके बारे में कुछ पक्के सबूत तो है नहीं लेकिन इतना जरूर कह सकते हैं कि, कुछ स्टडीज जरूर दिखाती हैं की, क्रिएटिन से हमारे जो DHT लेवल है बढ़ जाता है |

DHT LEVEL यह होता है कि, आपके बॉडी का जो टेस्टोस्टेरोन होता है उससे यह किसी भी  मैकेनिज्म के साथ कंवर्ट हो जाता है |
DHT आपके सिर की त्वचा पर बैठ जाता है तो आपकी डाइट जितनी भी अच्छी हो न्यूट्रीशन में तो वह अपने बालों तक पहुंच नहीं पाता है | तो अपने आप होता क्या है अपने बालों  का पतलापन शुरू हो जाता है और ऐसे में हमारे बाल झड़ना भी शुरू हो जाता है|

मुझे  भी क्रिएटिन बहुत अच्छा लगता है, क्योंकि यह हमारे बॉडी में एक्चुअल काम करता है  मसल बढ़ाने में और हमारी बॉडी कटिंग करने में भी और हल्का सा बालों में पतलापन होना मैंने भी अनुभव किया है |

 यह समस्या हर किसी को नहीं हो सकती है कई लोगों को होती है लेकिन कई लोगों को नहीं |
अगर आपने ऐसे देखा कि क्रिएटिन लेने से आपके बालों में पतलापन हो रहा है तो फिर आप इस चीज को ना ही ले तो अच्छा होगा | 

 क्रिएटिन के फायदे


  •  क्रिएटिन मसल्स की सहनशक्ति बढ़ा देता है जिससे कि आप लंबे समय तक वर्कआउट कर सकते हैं | 

  •  क्रिएटिन फैट कम करने की प्रक्रिया को बढ़ा देता है जो कि आपको lean मसल गेन करने में मदद करता है| 

  •  क्रिएटिन में कोई कैलोरीज नहीं होती हैं इसलिए यहां lean मसल बनाने के लिए एक अच्छा प्रोडक्ट है |

  •  क्रिएटिन मसल साइज बढ़ाने में मदद करता है

 क्रिएटिन के नुकसान


वैसे देखा जाए तो क्रिएटिन पाउडर के फायदे ज्यादा है और  नुकसान ना के बराबर है जैसे-

  • क्रिएटिन लेने के साथ-साथ आपको ज्यादा पानी पीने की जरूरत होती है लेकिन यदि आप दिन में ४ से ५ लीटर पानी नहीं पिएंगे तो आपके बॉडी में क्रैंप्स आने के चांसेस बढ़ जाते हैं |

  • जिनको लीवर किडनी की प्रॉब्लम है  वह इस प्रोडक्ट से दूर रहें |

  • ज्यादा क्रिएटिन  के सेवन से पेट खराब होने और वेट बढ़ने की समस्या भी  देखी गई है |



creatine uses benefits side effects in hindi creatine uses benefits side effects in hindi Reviewed by Hindi Health Fitness on July 26, 2018 Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.